Review from a reader: Hazaaro khwahishein by Rahul Chawla

हजारों ख्वाहिशें पुस्तक बहुत ही मजेदार है ,आपको ख़ुशी देगी रोमांचित भी करेगी…हिंदी साहित्य का विद्यार्थी होने के कारण मुझे पुस्तकें पढ़ने का बहुत शौक है
“मैंने राहुल जी की किताब “हज़ारों ख्वाहिशें” पढ़ा,बहुत ही अच्छा लगा,पढ़ने को प्रेम तो मिला ही साथ में बहुत सारी इतिहास की जानकारियां भी मिली ,जिनसे अबतक मैं अनजान था,
काफ़ी कुछ सीखने को मिला, इस किताब से,
आपके सरल शब्दों से बने वाक्यों में गहराई है, जिसने मुझे काफी प्रभावित किया, हज़ारों ख़्वाहिशें, इश्क़ और इंक़लाब की एक बहुत ही खूबसूरत दास्तान है,
यह Rahul Chawla जी की पहली किताब है, इस पुस्तक में आपको किरदारों के माध्यम से प्यार,जिम्मेदारी, सफलता,विफलता, राजनीति, परेशानियां ,मजबूरियां , धर्म, सामाजिक मुद्दे इत्यादि चीजों को भरपूर जीने का मौका मिलेगा। पुस्तक का प्रकाशन हिन्द युग्म द्वारा किया गया है।

ये पंक्ति वाकई में इस उपन्यास के माध्यम से सच्ची साबित होती हुई प्रतीत होती है, यह उपन्यास मुखर्जी नगर में IAS की तैयारी कर रहे दोस्तों की कहानी भी कहता है और साथ ही साथ आईएएस बनने के पीछे की इंटेंशन, आईएएस बनने की प्रक्रिया में अपनी राह में आई छोटी-बड़ी चीजों से सैक्रेफाइज करना और तैयारी के बीच की फ्रस्ट्रेशन भी बयाँ करता है।

किस तरह से आप एक अनजान शहर को जीने लगते हैं और शहर भी आपको धीरे-धीरे अपनाने लगता है, ये वाकई में दिलचस्प है। नॉलेज जैसा भी काफी कुछ है पर सबसे आकर्षित करने वाली बात है,
‘हज़ारों ख़्वाहिशें’ इस देश के लाखों-करोड़ों मेरे जैसे स्टूडेंट्स की ख़्वाहिशों से साक्षात्कार कराती है,गलाकाट प्रतिस्पर्धा के इस दौर में, गाँव-क़स्बे-शहर के युवा मन में बड़ा सपना लिए, करियर की राह पर निकल पड़ते हैं, पर ये राह इतनी सीधी और सपाट नहीं होती।

हर किसी की ज़िंदगी में अलग क़िस्म के संघर्ष और चुनौतियाँ होती हैं। पर इन चुनौतियों के बीच कुछ दिलचस्प कहानियाँ भी आकार ले रही होती हैं, बस हर कोई अपनी कहानी बयां नहीं कर पाता

आप पढियेगा जरूर🌼❣️
अंत में राहुल जी, ‘ मैं आपसे आशा करता हूँ कि आप कहानियों और पटकथाओं के माध्यम से समाज को सही दिशा में लेकर जाएंगे।

स्वस्थ रहें-मस्त रहें।💐

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s